अन्तर्राष्ट्रीय श्री रेणुका जी मेला पारम्परिक हर्षोल्लास से शुरू

0

मुख्यमन्त्री प्रेम कुमार धूमल भी मेले मे शामिल होने पहुंचे मन्दिर मे माथा टेका पूजा अर्चना की।

 रेणुका जी। सप्ताह भर चलने वाला अन्तर्राष्ट्रीय मेला श्री रेणुका जी आज भगवान परशुराम की पारम्परिक शोभा यात्रा के रेणुका तीर्थ पर पहुंचने के साथ ही पूरे हर्षोल्लास केे साथ शुरू हो गया। यह सिरमौर का सबसे बड़ा वार्षिक धार्मिक एवं सांस्कृतिक उत्सव है जिसका स्थापित परम्परा के अनुसार हिमाचल के मुख्यमन्त्री ही शुभारम्भ किया करते थे, मगर अबके रेणुका उपचुनाव के कारण सिरमौर मे चुनावी आचार संहिता लागू होने के कारण मुख्यमन्त्री प्रो0 प्रेम कुमार धूमल मेले का शुभारम्भ नहीं कर पाये, हालांकि भगवान की शोभायात्रा के रेणुका पहुंचने के बाद मुख्यमन्त्री सड़क मार्ग से संाय करीब छः बजे मेले मे भाग लेने के लिए रेणुका पहुंच गये जहां हजारों स्थानीय निवासियों द्वारा उनका भव्य स्वागत किया गया।

सिरमौर की उपायुक्त मीरा मोहन्ती ने आज ददाहू के स्कूल मैदान मे भगवान परशुराम जी की तथा अन्य देवताओं की पालकियों का पारम्परिक ढंग से स्वागत किया जो ग्राम शीतला, कटाहां, माशु, मण्डलाहां तथा जामु कोटी सहित अनेक गांवों से यहां लाई गई थी, पूजा अर्चना की तथा भगवान परशुराम की पालकी को अपने कन्धों पर उठा कर पारम्परिक शोभा यात्रा का शुभारम्भ किया। इस बार शोभायात्रा को अधिक आकर्षक बनाने के लिए होमगार्ड बैंड व स्थानीय बजन्तरी शोभायात्रा की अगुवाई कर रहे थे। भगवान परशुराम की इस दिव्य शोभा यात्रा मे लाखों लोगों ने भाग लिया।

भगवान परशुराम की पारम्परिक शोभा यात्रा के ददाहू बाजार मे से होती हुइ रेणुका झील पर पहुंची। देव पालकियों का दर्शन करने तथा माथा टेकने के लिए रास्ते भर श्रद्धालुओं की भारी धक्कमपेल रही।

सिरमौर का यह सबसे बड़ा पारम्परिक एवं सांस्कृतिक उत्सव पांच नवम्बर से 10 नवम्बर तक मनाया जायेगा। हर वर्ष देवप्रबोधिनी एकादशी की पूर्व सन्ध्या पर यह धार्मिक उत्सव भगवान परशुराम की पालकी के रेणुका तीर्थ पर पहुंचने के साथ ही आरम्भ हो कर पुर्णिमा के दिन भगवान परशुराम तथा अन्य देव पालकियों की पारम्परिक विदाइ के साथ ही सम्पन्न हो जाता है। देवप्रबोधिनी एकादशी के पावन अवसर पर रेणुका झील मे पवित्र स्नान 6 नवम्बर को प्रातः तीन बजे से आरम्भ होगा जबकि पुर्णिमा स्नान दस नवम्बर को होगा।

पौराणिक ग्रन्थों के अनुसार सप्तऋषियों मे एक यमदग्नि ऋषि अपनी पत्नी भगवती रेणुका के साथ हिमाचल के कुलूत प्रदेश के मलाणा मे विश्व के पहले लोकतन्त्र की स्थापना करने के बाद मध्य हिमालयी ऋंख्लाओं को लांघते हुए रेणुका झील के ठीक उपर तपे के टीले पर पधारे तथा वहां शिव भक्ति मे लीन हो गये। महऋषि यमदग्नि व भगवती रेणुका के तप से प्रसन्न हो कर भगवान ने वर दिया कि भगवान श्रीहरि विष्णु उनके पुत्र के रूप मे अपना छटा अवतार धारण करेंगे।

समय पर भगवान परशुराम ने महऋषि यमदग्नि व भगवती रेणुका के पुत्र के रूप मे अवतार लिया जिनका नामकरण राम (ब्रहमाण्ड पुराण) के रूप मे किया गया। उनका नाम राम से बदल कर परशुराम तब हो गया जब उन्होने अपने कठोर तप से भगावान शिव को प्रसन्न कर उनसे दिव्यास्त्र परशु ग्रहण किया। परशुधारक परशुराम का ही वर्णन सकल सनातन शास्त्रों मे मिलता है।

एक समय आर्यावर्त के अत्याचारी एवं अभिमानी राजा सहस्त्रबाहु ने भगवान परशुराम की अनुपस्थिति मे महऋषि यमदग्नि के तपे के टीले के आश्रम पर अपनी पूरी सैन्य शक्ति के साथ आक्रमण किया तथा महऋषि यमदग्नि से कामधेनु गाय की मांग की। महऋषि यमदग्नि ने यह कहते हुए कामधेनु गाय देने से इनकार कर दिया कि वह देवराज इन्द्र की अमानत है तथा उसे आगे किसी को भी नहीं दिया जा सकता है। इससे क्रोधित हो सहस्त्रबाहु ने महऋषि यमदग्नि की हत्या कर दी। भगवती रेणुका ने पर्वत के नीचे राम सरोवर मे कूद कर जलसमाधि ले ली। पुराणो के अनुसार भगवती रेणुका के राम सरोवर मे कूदते ही राम सरोवर स्त्री के आकार का हो गया तथा रेणुका झील कहलाया।

महेन्द्र पर्वत पर तपस्यारत भगवान परशुराम को इस घटना की जानकारी होते ही वह तपे के टीला आश्रम पर पहुंचे तथा एक भयंकर युद्ध मे राजा सहस्त्रबाहु को सेना सहित मार डाला। भगवान परशुराम ने अपने तपोबल से महऋषि यमदग्नि को जीवित कर दिया तथा रेणुका झील के किनारे प्रार्थना कर भगवती रेणुका का आहवान किया। भगवती रेणुका पुत्र की पुकार सुन झील से बाहर आई तथा कहा कि वह स्थाइ रूप से झील मे ही निवास करेगी व वर्ष मे सिर्फ एक बार देवप्रबोधिनी एकादशी के पावन अवसर पर अपने पुत्र से मिलने के लिए झील से बाहर आयेगी। इस अवसर पर जो भक्त वहां उपस्थित होंगे उन पर उनकी दिव्य कृपा की वर्षा होगी तथा उनकी हर मनोकामना पूरी होगी। इसी अवसर पर पौराणिक काल से रेणुका मे मेला भरता है। रेणुका तीर्थ तथा इसकी महिमा का वर्णन अनेक पुराणों व प्राचीन शास्त्रों मे मिलता है। इस अवसर पर लाखों श्रद्धालु रेणुका आते हैं।

इस मेले का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है क्योंकि अनेक पुराणों मे रेणुका मे मेले का जिक्र मिलता है। इसी प्रकार भगवान परशुराम द्वारा अत्याचारी, पापी एवं अभिमानी राजाओं का वध कर 21 बार पृथ्वी को खाली करने का भी वर्णन मिलता है।

Share.

About Author

Leave A Reply