‘पलम में है दम, नाशपाती भी नहीं है कम’

0

कुल्लू: बागवानी की दृष्टि से महत्वपूर्ण कुल्लू जिले के बागवानों की सुविधा के लिए कृषि उपज मंडी समिति (एपीएमसी) कुल्लू एवं लाहौल ने कई महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं। इससे कुल्लू घाटी के बागवान काफी लाभान्वित हो रहे हैं। विभिन्न नकदी फसलों को मंडी तक पहुंचाने, उन्हें अच्छे दाम दिलाने और जिले की विभिन्न मंडियों में बागवानों, आढ़तियों व ट्रांसपोर्टरों को मूलभूत सुविधाएं मुहैया करवाने में मंडी समिति महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है। इस समय कुल्लू घाटी में पलम का सीजन लगभग समाप्ति की ओर है और नाशपाती का सीजन शुरू हो गया है। एपीएमसी के प्रयासों से बागवानों को इस बार पलम और नाशपाती के काफी अच्छे दाम मिल रहे हैं।
पलम का प्रति किलो दाम इस बार 40 रूपये से उपर ही रहा। इसी प्रकार अच्छी क्वालिटी की नाशपाती को भी 40 से 50 रूपये तक रेट मिल रहा है। कृषि उपज मंडी समिति कुल्लू एवं लाहौल के अध्यक्ष नीरत राम शर्मा और सचिव शेर सिंह ने बताया कि प्रतिकूल मौसम के कारण इस सीजन में पलम का उत्पादन पिछले वर्ष से एक-चौथाई से भी काफी कम होने की उम्मीद है। उन्होंने बताया कि इस सीजन में 30 जून तक कुल्लू जिला से पलम की लगभग 2.20 लाख पेटियां बाहरी मंडियों को भेजी जा चुकी हैं। इनमें से लगभग 81 हजार पेटियां जिले की विभिन्न मंडियों में पहुंची हैं, जबकि लगभग 1.39 लाख पेटियां सीधे बाहरी मंडियों को भेजी गई हैं।
उधर, अगर नाशपाती की बात करें तो पिछले वर्ष जिला से नाशपाती की लगभग 2.68 लाख पेटियां बाहरी मंडियों को भेजी गई थी। मंडी समिति के अनुसार इस बार कुल्लू घाटी में नाशपाती की फसल अच्छी है और पिछले वर्ष की तुलना में लगभग दोगुणा पैदावार का अनुमान लगाया जा रहा है। नाशपाती की अच्छी फसल और आगामी सेब सीजन के मद्देनजर मंडी समिति ने विशेष तैयारियां कर ली हैं। समिति के अध्यक्ष और सचिव ने सभी बागवानों से आग्रह किया है कि वे अपने उत्पाद को अच्छी ग्रेडिंग और पैकिंग के साथ मंडियों में लाएं। इससे उन्हें काफी अच्छे दाम मिलेंगे। उन्होंने बताया कि समिति की ओर से कुल्लू, भुंतर, बंदरोल, पतलीकूहल और खेगसू सहित सभी मंडियों में बागवानों, आढ़तियों व ट्रांसपोर्टरों को सभी मूलभूत सुविधाएं मुहैया करवाई जा रही हैं। पार्किंग का भी विशेष ध्यान रखा गया है। सेब सीजन के लिए भी समिति ने सभी आवश्यक तैयारियां पूरी कर ली हैं। इस प्रकार मंडी समिति कुल्लू एवं लाहौल घाटी के बागवानों को लाभान्वित करने के लिए लगातार प्रयासरत है।

कुल्लू के पलम और नाशपाती को इस बार मिल रहे अच्छे दाम, 30 जून तक पलम की करीब 2.20 लाख पेटियां पहुंचाई मंडियों में
इस सीजन में प्रति किलो 40 रूपये से उपर ही रहे पलम के दाम, नाशपाती को भी मिल रहा अच्छा रेट, अधिक उत्पादन की उम्मीद
बागवानों की सुविधा के लिए एपीएमसी ने उठाए हैं कई कदम

Share.

About Author

Sanjeev Awasthi has been a news correspondent for more than 14 years. He is currently Managing Editor of Northern Voices Online (NVO News) and Revolution Time.

Leave A Reply