धार्मिक परंपराओं और सांस्कृतिक विरासत को सहेजना आवश्यक: वीरभद्र सिंह

0

शिमला: मुख्यमंत्री श्री वीरभद्र सिंह ने प्रदेश की देव संस्कृति के साथ-साथ परंपराओं और सांस्कृतिक विरासत को सहेजने की आवश्यकता पर बल दिया। मुख्यमंत्री आज रोहड़ू उपमण्डल के विकास खण्ड चैहारा के देवीधार में खांटू देवता परिसर में 28 वर्षों के बाद आयोजित किये जा रहे धार्मिक समारोह ‘शांद’ (महायज्ञ) के अवसर पर उपस्थित जनसमूह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रदेश की समृद्ध संस्कृति और परंपराओं का संरक्षण किया जाना चाहिए, क्योंकि हमारे रीति-रिवाज, संस्कृति और परंपराएं हमारी पहचान है। उन्होंने लोगों से अपनी भाषा, रीति-रिवाजों, कला, संस्कृति और परंपरांओं के सरंक्षण का आह्वान किया।

श्री वीरभद्र सिंह ने स्थानीय लोगों की मांग पर देवीधार-लालपानी मार्ग के रखरखाव के और झलवाड़ी तक मार्ग निर्माण के निर्देश दिये। उन्होंने लोगों से क्षेत्र में विकासात्मक कार्यों के लिए स्वेच्छा से अपनी भूमि दान देने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि रोहड़ू अस्पताल के religious-traditionsअतिरिक्त भवन का निर्माण कार्य प्रगति पर है और इसमें निर्माण से वर्तमान में 150 बिस्तरों वाले इस अस्पताल में 50 और बिस्तरों की सुविधा उपलब्ध होगी। इस अस्पताल को आधुनिक साजो-सामान से सुसज्जित किया जाएगा। उन्होंने टांगू में प्राथमिकता के आधार पर पुल निर्माण और जांगला में पुलिस पोस्ट स्थापित करने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि देवीधार में स्टेडियम के निर्माण का खर्च प्रदेश सरकार वहन करेगी। उन्होंने कहा कि आयुर्वेदिक औषधालय के मौजूदा ढांचे का हस्तांतरण आयुर्वेद विभाग के नाम पर होने के उपरांत आयुर्वेदिक औषधालय भवन का निर्माण किया जाएगा। उन्होंने देवीधार में बैंक के विस्तार पटल खोलने का मामला उठाने का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही चिड़गांव में लड़कियों के लिए आवासीय सुविधा संपन्न विद्यालय खोला जाएगा।

श्री वीरभद्र सिंह ने कहा कि वर्तमान सरकार ने प्रदेश में 717 विद्यालय खोले या स्तरोन्नत किये हैं। इसके अतिरिक्त प्रदेश में 14 महाविद्यालय और अन्य प्रतिष्ठित संस्थान खोले गये हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार चंबा, हमीरपुर और सिरमौर जिले में नये चिकित्सा महाविद्यालय खोलने जा रही है, जिसके लिए प्रति महाविद्यालय 190 करोड़ रुपये की धनराशि का प्रावधान किया गया है। उन्होंने कहा कि विकास की कोई सीमा नहीं होती और कांग्रेस प्रदेश के प्रत्येक क्षेत्र के संतुलित, समान एवं समग्र विकास में विश्वास रखती है। उन्होंने क्षेत्र के लोगों से लाल चावल उगाने की ओर भी ध्यान देने का आह्वान किया, क्योंकि यह क्षेत्र पूर्व में सेब उत्पादन के अतिरिक्त लाल चावलों के उत्पादन के लिए प्रसिद्ध था।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर देवताओं की पूजा अर्चना की और समारोह के आयोजन के लिए क्षेत्र के लोगों को बधाई दी। चैहारा विकास खण्ड और रामपुर क्षेत्र के 14 देवता महायज्ञ ‘शांद’ में भाग लेने के लिए मुख्य देवता खांटू देवता के परिसर में एकत्रित हुए। शांद महायज्ञ जो गत वीरवार को आरंभ हुआ, शनिवार सांय संपन्न होगा। बड़ी धार्मिक और ऐतिहासिक मान्यता वाले इस महायज्ञ, को देखने पारंपरिक वेशभूषा में हजारों की संख्या में लोग पहुंचे। इससे पूर्व, मुख्यमंत्री ने सात करोड़ रूपये की लागत से निर्मित होने वाले सीमा कालेज रोहडू के शैक्षणिक और प्रशासनिक खण्ड की आधारशिला रखी। ग्राम पंचायत देवीधार की प्रधान श्रीमती विद्या नेगी मन्दिर के प्रमुख कारदार श्री मेहर सिंह ठाकुर ने मुख्यमंत्री और अन्य गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत किया। उन्होंने मुख्यमंत्री का समारोह में आने के लिये आभार भी प्रकट किया।

Share.

About Author

Sanjeev Awasthi has been a news correspondent for more than 14 years. He is currently Managing Editor of Northern Voices Online (NVO News) and Revolution Time.

Leave A Reply