उप्र भाजपा अध्यक्ष के बिगड़े बोल:स्वतंत्र देव सिंह बोले- भारत का पाकिस्तान और चीन के साथ युद्ध कब होगा, मोदी ने इसकी तारीख तय कर दी


  • Hindi News
  • National
  • UP BJP News Updates: UP BJP Chief Says, “PM Has Decided When There Will Be War With China, Pak”

लखनऊ14 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

उप्र भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने 23 अक्टूबर को भाजपा विधायक संजय यादव के घर पर एक कार्यक्रम में यह टिप्पणी की। -फाइल फोटो

  • स्थानीय भाजपा सांसद रवींद्र कुशवाहा ने कहा- उप्र भाजपा अध्यक्ष ने पार्टी कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाने के लिए ऐसा कहा
  • स्वतंत्र देव सिंह ने समाजवादी पार्टी और बहुजन समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं की तुलना आतंकवादियों से की

उत्तर प्रदेश के भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह अपने विवादित बयान को लेकर चर्चा में हैं। हाल ही में उन्होंने एक कार्यक्रम मे कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसका फैसला कर लिया है कि भारत का पाकिस्तान और चीन के साथ युद्ध कब होगा।

भाजपा अध्यक्ष का यह बयान ऐसे समय में आया है, जब भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में मई से ही तनाव जारी है। सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो क्लिप में भाजपा नेता यह कहते नजर आ रहे हैं कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण और अनुच्छेद 370 के फैसलों की तरह ही उन्होंने यह तय कर लिया है कि पाकिस्तान और चीन के साथ युद्ध कब होगा।

23 अक्टूबर को एक कार्यक्रम ये सिंह ने टिप्पणी की

सिंह वीडियो जारी करने वाले भाजपा विधायक संजय यादव के घर पर 23 अक्टूबर को एक कार्यक्रम में बोल रहे थे। अपने संबोधन में सिंह ने समाजवादी पार्टी और बहुजन समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं की तुलना आतंकवादियों से की।

चीन के साथ तनाव खत्म करना चाहते हैं: राजनाथ

स्थानीय सांसद रवींद्र कुशवाहा ने कहा कि पार्टी कार्यकर्ताओं के मनोबल को बढ़ाने के लिए उन्होंने ऐसा कहा। वहीं, दूसरी ओर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने रविवार को कहा कि भारत चीन के साथ तनाव खत्म करना चाहता है, लेकिन हम अपनी एक इंच जमीन भी किसी को नहीं लेने देंगे।



Source link

फोटोज में दशहरा:नवी मुंबई में मास्क पहने नजर आया रावण, लखनऊ में लोगों ने ऑनलाइन देखा दहन


  • Hindi News
  • National
  • Dussehra Festival Celebrated In Several Parts Of India Durga Pooja Photos

नई दिल्ली3 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

फोटो नवी मुंबई की है। यहां दशहरे पर रावण के पुतले को भी मास्क पहनाकर कोरोना से बचाव के लिए लोगों को जागरूक किया गया।

देशभर में रविवार को धूमधाम से दशहरा मनाया गया। हालांकि, कोरोना के चलते पंडालों में लोगों की भीड़ कम ही देखने को मिली। नवी मुंबई में मास्क पहने रावण का दहन किया गया तो पंजाब के लुधियाना में 30 फीट ऊंचे रावण के पुतले का दहन हुआ। उत्तर प्रदेश के लखनऊ में लोगों ने रावण दहन का आनंद ऑनलाइन उठाया।

फोटो उत्तर प्रदेश के आगरा शहर की है। यहां दशहरा पर कलाकार रावण के अंत का मंचन करते हुए।

फोटो उत्तर प्रदेश के आगरा शहर की है। यहां दशहरा पर कलाकार रावण के अंत का मंचन करते हुए।

फोटो दिल्ली की है। यहां रावण का भव्य पुतला दहन किया गया। लोगों ने असत्य पर सत्य की जीत का जश्न मनाया।

फोटो दिल्ली की है। यहां रावण का भव्य पुतला दहन किया गया। लोगों ने असत्य पर सत्य की जीत का जश्न मनाया।

फोटो पंजाब के अमृतसर की है। यहां रावण दहन देखने छोटे बच्चे भी पहुंचे। शाम को ही यहां रावण दहन कर दिया गया।

फोटो पंजाब के अमृतसर की है। यहां रावण दहन देखने छोटे बच्चे भी पहुंचे। शाम को ही यहां रावण दहन कर दिया गया।

फोटो पंजाब के अमृतसर शहर की है। यहां एक छोटे बच्चे ने राम का रूप धारण करके रावण का पुतला दहन किया।

फोटो पंजाब के अमृतसर शहर की है। यहां एक छोटे बच्चे ने राम का रूप धारण करके रावण का पुतला दहन किया।

फोटो जालंधर की है। यहां रावण के बड़े स्वरूप का दहन किया गया। कोरोना के चलते इस बार कम लोग ही रावण दहन देखने पहुंचे।

फोटो जालंधर की है। यहां रावण के बड़े स्वरूप का दहन किया गया। कोरोना के चलते इस बार कम लोग ही रावण दहन देखने पहुंचे।

फोटो दिल्ली की है। यहां दशहरा पर रामलीला और रावण दहन देखने कड़कड़डूमा मैदान पर बड़ी संख्या में लोग पहुंचे। हालांकि, कोरोना के चलते लोगों को दूर ही रखा गया।

फोटो दिल्ली की है। यहां दशहरा पर रामलीला और रावण दहन देखने कड़कड़डूमा मैदान पर बड़ी संख्या में लोग पहुंचे। हालांकि, कोरोना के चलते लोगों को दूर ही रखा गया।

फोटो बठिंडा की है। यहां भारतीय किसान यूनियन ने रावण का दहन किया। इस दौरान किसानों ने जय किसान का नारा भी लगाया।

फोटो बठिंडा की है। यहां भारतीय किसान यूनियन ने रावण का दहन किया। इस दौरान किसानों ने जय किसान का नारा भी लगाया।

फोटो गुरुग्राम की है। यहां मैदान में रावण दहन के बाद लोगों ने पटाखे जलाकर जश्न मनाया।

फोटो गुरुग्राम की है। यहां मैदान में रावण दहन के बाद लोगों ने पटाखे जलाकर जश्न मनाया।

फोटो दिल्ली के रामलीला मैदान की है। यहां रामलीला मंचन के दौरान रावण वध का नजारा पेश करते कलाकार।

फोटो दिल्ली के रामलीला मैदान की है। यहां रामलीला मंचन के दौरान रावण वध का नजारा पेश करते कलाकार।

पंजाब के लुधियाना में 30 फीट का रावण दहन किया गया। मौके पर पुलिस मौजूद रही। सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखा गया। वहीं, लोग भी कम ही नजर आए।

पंजाब के लुधियाना में 30 फीट का रावण दहन किया गया। मौके पर पुलिस मौजूद रही। सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखा गया। वहीं, लोग भी कम ही नजर आए।

फोटो दिल्ली की है। इस बार यहां रावण को कोरोना का रूप दिया गया है। राम का रूप धारण करके कलाकार ने रावण वध का मंचन किया।

फोटो दिल्ली की है। इस बार यहां रावण को कोरोना का रूप दिया गया है। राम का रूप धारण करके कलाकार ने रावण वध का मंचन किया।

फोटो गुरुग्राम की है। यहां राम ने रावण के पुतले को जलाकर असत्य पर सत्य की जीत का संदेश दिया।

फोटो गुरुग्राम की है। यहां राम ने रावण के पुतले को जलाकर असत्य पर सत्य की जीत का संदेश दिया।

मुंबई में धू-धूकर जल उठा रावण। इस दौरान लोगों ने पटाखे जलाकर जश्न मनाया और एक-दूसरे को विजय दशमी की बधाई दी।

मुंबई में धू-धूकर जल उठा रावण। इस दौरान लोगों ने पटाखे जलाकर जश्न मनाया और एक-दूसरे को विजय दशमी की बधाई दी।



Source link

शिवसेना की दशहरा रैली:उद्धव बोले- भाजपा बिहार में फ्री वैक्सीन देने की बात कर रही है, बाकी देश क्या पाकिस्तान और बांग्लादेश है


  • Hindi News
  • National
  • Uddhav Said BJP Is Talking About Giving Free Vaccine In Bihar, The Rest Of The Country Is Pakistan And Bangladesh

कुछ ही क्षण पहले

  • कॉपी लिंक

महाराष्ट्र के सीएम ने कहा, “जीएसटी फेल हो गया। प्रधानमंत्री इस बात को मानें और पुरानी टैक्स व्यवस्था लागू करें।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे रविवार को शिवसेना की दशहरा रैली में शामिल हुए। इस दौरान उद्धव ने बिहार चुनाव और भाजपा के वादों पर बात की। उद्धव ने कहा कि आप (भाजपा) बिहार में फ्री वैक्सीन देने की बात कर रहे हैं, बाकी देश क्या बांग्लादेश और पाकिस्तान है। उद्धव ने कहा- इस तरह की बातें करने वालों को खुद पर शर्म आनी चाहिए। आप केंद्र में हैं।

दशहरे के मौके पर उद्धव की भाजपा को चुनौती

उद्धव ठाकरे ने भाजपा को चुनौती भी दी। उन्होंने कहा- एक साल हो गया मुझे मुख्यमंत्री बने। जिस दिन मैं मुख्यमंत्री बना था, उसी दिन से कहा जा रहा था कि महाराष्ट्र की सरकार गिर जाएगी। मैं उन लोगों को चुनौती देता हूं कि अगर आप में दम हो तो ऐसा करिए और दिखाइए।

उन्होंने कहा- हमसे हिंदुत्व के बारे में सवाल किए जा रहे थे। पूछा जा रहा था कि महाराष्ट्र में मंदिर दोबारा क्यों नहीं खोले जा रहे हैं। वो लोग कह रहे थे कि मेरा हिंदुत्व बाला साहब ठाकरे के हिंदुत्व से अलग है। मैं कहता हूं कि आपका हिंदुत्व मंदिर की घंटियां और चीजें बदलने तक ही है और हमारा हिंदुत्व इस तरह का नहीं है। जो हमारे हिंदुत्व पर सवाल उठा रहे हैं, वो दुम दबाकर बैठे हुए थे, जब बाबरी मस्जिद ढहाई गई थी।

प्रधानमंत्री पुरानी टैक्स व्यवस्था लागू करेंः उद्धव

महाराष्ट्र के सीएम ने कहा, “जीएसटी फेल हो गया। प्रधानमंत्री इस बात को मानें और पुरानी टैक्स व्यवस्था लागू करें। जो लोग बिहार के बेटे के लिए इंसाफ मांग रहे हैं, वो महाराष्ट्र के बेटे (आदित्य ठाकरे) का चरित्र हनन करने में लगे हुए हैं।”

राउत ने कहा- 25 साल महाराष्ट्र में सरकार चलाएंगे

रैली में शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत भी मौजूद थे। राउत ने कहा- महाराष्ट्र की सरकार 5 साल पूरे करेगी। दरअसल, हम 25 साल तक शासन करेंगे। अब से हर चीज “महा’ होगी। महा अघाड़ी, महाराष्ट्र। अगर ये “महा’ दिल्ली तक पहुंच जाए तो चौंकिएगा नहीं। पिछले साल मैंने कहा था कि इस साल महाराष्ट्र में शिवसेना का मुख्यमंत्री होगा और देखिए, यह हो गया।



Source link

बिहार में नए समीकरण का संकेत:चिराग ने कहा- अभी जो मुख्यमंत्री हैं वो दोबारा सीएम नहीं बनेंगे, हम भाजपा-लोजपा की सरकार बनाएंगे


  • Hindi News
  • National
  • Bihar Election: Chirag Paswan Wants Temple ‘bigger Than Ram Mandir’ In Sitamarhi For Goddess Sita

सीतामढ़ीएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष चिराग पासवान ने बिहार चुनाव के मद्देनजर रविवार को बक्सर जिले में चुनावी रैली को संबोधित किया।

बिहार विधानसभा चुनाव से कुछ दिन पहले ही लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान ने नए समीकरण के संकेत दिए हैं। उन्होंने कहा कि इस बात में शक नहीं है कि हम सरकार बनाएंगे। अगर हमारी सरकार बनेगी तो हम सीता मंदिर की नींव रखेंगे। कम से कम जो अभी मुख्यमंत्री हैं, वो तो मुख्यमंत्री नहीं रहेंगे। भाजपा की अगुआई में हम भाजपा-लोजपा सरकार बनाएंगे।

चिराग ने न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत में मंदिर कार्ड भी खेला। उन्होंने कहा- अगर लोजपा सत्ता में आई तो सीतामढ़ी में सीता मंदिर बनाया जाएगा। खुद को मोदी का हनुमान कहने वाले चिराग ने कहा कि मैं राम मंदिर से भी बड़ा सीता मंदिर बनाना चाहता हूं।

चिराग ने कहा कि सीता के बिना राम अधूरे हैं और इसी तरह सीता भी राम के बिना अधूरी हैं। अयोध्या के राम मंदिर को सीतामढ़ी के सीता मंदिर से जोड़ने के लिए एक कॉरिडोर भी बनाया जाएगा। चिराग पासवान सीतामढ़ी के पुनौरा धाम में पूजा करने आए थे।

विजन डॉक्यूमेंट में राम-सीता कॉरिडोर का जिक्र

लोजपा ने बिहार फर्स्ट-बिहारी फर्स्ट के अपने विजन डॉक्यूमेंट में सीता मंदिर बनाने का वादा किया है। इसके साथ ही मंदिर के आसपास के इलाकों के विकास भी बात कही गई है। अयोध्या से सीतामढ़ी को जोड़ने के लिए एक सिक्स लेन कॉरिडोर की भी बात इसमें है। उन्होंने बिहार-उत्तर प्रदेश सीमा तक ये रोड बनेगी और इसे सीता-राम कॉरिडोर नाम दिया जाएगा।

बिहार विधानसभा चुनाव में लोजपा ने जयदू के खिलाफ तो कैंडिडेट उतारे हैं, पर भाजपा के खिलाफ नहीं। बिहार में तीन चरणों में चुनाव होगा। 28 अक्टूबर, 3 नंवबर और 7 नवंबर को यहां वोटिंग होगी। वोटों की गिनती 10 नवंबर को की जाएगी।



Source link

सुरक्षा में सेंध:पटियाला में कैप्टन की रैली खत्म होते ही फैली दहशत, दो गुटों में चली गोलियां, सीसीटीवी में कैद; सवाल-कैसे पहुंचे हथियार


  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Patiala
  • Patiala Dent In Security: Two Factions Fired After Captain’s Program In Patiala, Captured In CCTV; The Question How To Reach Arms

पटियाला37 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

पटियाला में नगर निगम ऑफिस में रैली को संबोधित करते मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (बाएं)।और रैली खत्म होने के तुरंत बाद फायरिंग में घायल युवकों का उपचार करती डॉक्टर्स टीम (दाएं)।

  • रविवार को मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंदर सिंह ने दशहरे के अवसर पर पटियाला में 1100 करोड़ रुपए के 4 बड़े प्रोजेक्ट्स की शुरुआत की
  • दोपहर बाद करीब 3 बजे कैप्टन रैली खत्म करते ही निगम ऑफिस से निकल गए तो हरविंदर सिंह जोई नाम के युवक पर हुआ हमला
  • गोली शहर के आम युवकों चरणजीत सिंह और रेहान को लगी, नेताओं ने पहुंचाया दोनों को अस्पताल

पटियाला में रविवार को दो गुटों में हुई फायरिंग में दो लोग घायल हो गए। फायरिंग की घटना मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के कार्यक्रम के ठीक बाद और आवास के करीब हुई। ऐसे में सवाल खड़ा होता है कि जब शहर में सीएम, वह भी अपने खुद के शहर में हों तो इतनी कड़ी सुरक्षा के बावजूद इस तरह हथियार लेकर पहुंच जाना और फायरिंग कर देना संभव कैसे हुआ। बाद में अफरा-तफरी के माहौल में जांच-पड़ताल में पुलिस ने पाया कि यह वारदात सीसीटीवी कैमरे में भी कैद हो गई है।

गांव सिद्धूवाल में रखा गया महाराजा भूपिंदर सिंह खेल यूनिवर्सिटी का नींव पत्थर, जिसके लिए सीएम आज पटियाला में आए थे।

गांव सिद्धूवाल में रखा गया महाराजा भूपिंदर सिंह खेल यूनिवर्सिटी का नींव पत्थर, जिसके लिए सीएम आज पटियाला में आए थे।

घटना नगर निगम ऑफिस के नजदीक एनआईएस चौक पर हुई है। बताते चलें कि रविवार को मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंदर सिंह ने दशहरे के अवसर पर पटियाला में 1100 करोड़ रुपए के 4 बड़े प्रोजेक्ट्स की शुरुआत की है। इनमें गांव सिद्धूवाल में महाराजा भूपिंदर सिंह खेल यूनिवर्सिटी का नींव पत्थर रखा गया है। 92.7 एकड़ क्षेत्रफल में 500 करोड़ रुपए की लागत बनने वाली पंजाब की यह पहली खेल यूनिवर्सिटी होगी। इसके अलावा राजपुरा रोड पर अत्याधुनिक नए बस अड्डे का निर्माण कार्य का नींव पत्थर भी रखा। कैप्टन अमरिंदर नगर निगम आफिस में रैली को संबोधित करने के लिए पहुंचे थे।

जैसे ही सीएम की रैली खत्म हुई, फैल गई दहशत
जानकारी मिली है कि दोपहर बाद करीब 3 बजे कैप्टन रैली खत्म करते ही निगम ऑफिस से निकल गए तो रैली में शामिल लोग भी लौटने लगे। इस दौरान कुछ युवकों ने हरविंदर सिंह जोई को मोटरसाइकल स्टार्ट करते समय रोका और उससे हाथापाई शुरू कर दी। रूमाल लपेटकर पहुंचे दो युवकों ने पांच राउंड फायर किए। गोली लगने से घायल युवकों की पहचान पटियाला के चरणजीत सिंह और रेहान नामक दो युवक इस दौरान घायल हो गए। रेहान की पीठ पर एक गोली लगी है, जबकि चरणजीत सिंह को दो गोलियां लगी हैं। लहूलूहान होकर नीचे गिर गए। उधर, सुरक्षा में तैनात पुलिस मुलाजिमों में भी हड़कंप मच गया, लेकिन तब तक गोली चलाने वाले घटनास्थल से फरार हो चुके थे। कांग्रेसी लीडरों ने तुरंत जख्मियों को अस्पताल पहुंचाया, जिसके बाद राजिंदरा अस्पताल के बाहर पुलिस का पहरा बढ़ा दिया गया। मौके पर पहुंचे चौकी न्यू अफसर कॉलोनी इंचार्ज गुरपिंदर सिंह ने कहा कि जख्मियों के बयान लेकर कार्रवाई की जा रही है।

5 महीने पहले हुए कत्ल की रंजिश है फायरिंग की वजह
दूसरी ओर जानकारी यह भी मिली है कि झगड़ा हरविंदर जोई और एसके खरौड़ ग्रुप के बीच है। करीब 5 महीने पहले थाना अनाज मंडी इलाके में शमशेर सिंह को गोलियां मार कत्ल कर दिया गया था। इस मामले में एसके खरौड़ सहित 15 लोगों को नामजद किया गया था। शमशेर सिंह को हरविंदर सिंह जोई निवासी धीरू नगरी सपोर्ट करता था, जिस वजह से एसके खरौड़ ग्रुप के साथ उसकी रंजिश चल रही थी।

टारगेट का क्या कहना है?
हरविंदर जोई ने कहा कि वह रैली के बाद लौट रहा था तो उसे युवकों ने पकड़ हाथापाई की थी, जिसके बाद दो युवकों ने गोलियां चलाई थी। किसी तरह खुद का बचाव करते हुए वह मौके से भाग गया था।



Source link

घरेलू एयर पैसेंजर को सुविधा:DGCA ने विंटर सीजन में 12,983 घरेलू उड़ानों की मंजूरी दी, पर यह पिछले साल से 44% कम


नई दिल्लीएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

सरकारी विमान कंपनी एयर इंडिया को 1126 और उसकी रीजनल एयरलाइन अलायंस एयर को 610 उड़ानें मिली हैं। -फाइल फोटो

डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन (DGCA) ने विंटर शेड्यूल के लिए एविएशन कंपनियों को 12,983 वीकली डोमेस्टिक फ्लाइट की मंजूरी दे दी है। यह शेड्यूल 25 अक्टूबर से अगले साल 27 मार्च तक चलेगा। उड़ानों की संख्या पिछले साल के मुकाबले करीब 44% कम है। पिछले साल DGCA ने विंटर सीजन के लिए 23,307 घरेलू उड़ानों की मंजूरी दी थी।

सबसे ज्यादा उड़ानें इंडिगो को मिलीं

DGCA ने रविवार को कहा कि देश की सबसे बड़ी एयरलाइन कंपनी इंडिगो को 6,006 उड़ानों की इजाजत दी गई है। वहीं, स्पाइस जेट को 1,957 और गो एयर को 1,203 फ्लाइट की मंजूरी दी गई है। सरकारी विमान कंपनी एयर इंडिया को 1126 और उसकी रीजनल एयरलाइन अलायंस एयर को 610 फ्लाइट्स की मंजूरी मिली है।

ये उड़ानें देश के 95 एयरपोर्ट से ऑपरेट होंगी। कोरोनावायरस संकट को देखते हुए इस समय देश में एयरलाइंस कंपनियों को मैक्सिमम 60% फ्लाइट्स ऑपरेशन की इजाजत है।

कोरोना के कारण एविएशन सेक्टर को नुकसान

भारत में कोरोना के कारण 2 महीने तक विमान सेवा पर रोक लगा दी गई थी। 25 मई को कुछ तय घरेलू उड़ानों को फिर से शुरू किया गया। उस समय, एयरलाइंस कंपनियों को सिर्फ 33% उड़ानें ऑपरेट करने की इजाजत दी गई थी। इसके बाद धीरे-धीरे यह संख्या लगातार बढ़ाई जा रही है।



Source link

राजस्थान:जयपुर एयरपोर्ट पर टॉयलेट में छिपे यात्री से तस्करी कर लाए सोने के 65 लाख के दो बिस्किट बरामद


  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Two Biscuits Of Gold Smuggled From The Passenger Hidden In The Toilet At Jaipur Airport, 65 Lakh Market Price

जयपुर8 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

जयपुर एयरपोर्ट पर कस्टम चैकिंग देखकर फ्लाइट में सोना छिपाकर लाया यात्री टॉयलेट में घुस गया। वहां सोना फ्लश में रख दिया ताकि पकड़ा नहीं जा सके। लेकिन संदेह होने पर कस्टम ने उसे धरदबोचा।

  • प्रत्येक बिस्किट का वजन करीब 600 ग्राम है, दोनों जब्त बिस्किट का कुल वजन 1.225 किलो है
  • पिछले साल से अब तक जयपुर एयरपोर्ट पर पकड़ा गया है तस्करी का 25 किलो सोना

दीपावली से पहले जयपुर एयरपोर्ट पर कस्टम विभाग के अफसरों ने टॉयलेट में ही एक यात्री को तस्करी कर सोना लेकर आते हुए पकड़ लिया। यात्री के कब्जे से सोने के दो बिस्किट बरामद हुए है। इनमें एक बिस्किट का वजन लगभग 600 ग्राम है। इनका कुल वजन 1.225 किलो था। जिसकी बाजार कीमत करीब 65 लाख रुपए आंकी जा रही है। कस्टम ने बरामद किए हुए सोने को सीज कर लिया है। इस संबंध में कस्टम विभाग यात्री से पूछताछ कर रहा है।

कस्टम विभाग के कमिश्नर सुभाष अग्रवाल ने बताया कि जयपुर एयरपोर्ट पर सुबह 10 बजे स्पाइसजेट की एक चार्टड फ्लाइट SG-144 पहुंची थी। जयपुर एयरपोर्ट पर तैनात डिप्टी कमिश्नर यतीश कुमार और उनकी टीम की निगरानी में फ्लाइट से उतरने वाले प्रत्येक यात्री ग्रीन चैनल से सुरक्षा प्रक्रिया पूरी कर चैक आउट कर रहे थे। तभी कस्टम के एयरपोर्ट पर तैनात कर्मचारियों को एक यात्री की गतिविधि पर शक हुआ।

चेकिंग देखकर टॉयलेट में घुस गया यात्री, संदेह होने पर टीम भी घुस गई

ऐसे में जब वो जल्दीबाजी में चैकिंग प्रक्रिया से पहले टॉयलेट के अंदर गया, तो पीछे से अधिकारियों ने उस टॉयलेट के बाहर निकलते ही पकड़ लिया। पहले पूछताछ करने पर उसने कुछ नहीं बताया। लेकिन जांच करने पर उसने कहा कि वो टॉयलेट के सोना छुपा कर आया है। जब जांच की गई, तो टॉयलेट के फ्लश से दो सोने के बिस्कुट बरामद किए गए। जिसके प्रत्येक बिस्किट का वजन करीब 600 ग्राम था।

सर्राफा व्यापरियों की भूमिका पर शक

कस्टम विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि आरोपी से पूछताछ जारी है। पूछताछ में उन्होंने अभी कोई खास जानकारी नहीं दी है। लेकिन ये अनुमान लगाया जा रहा है कि दिवाली से ठीक पहले आरोपी सोना बेचने के उद्देश्य से जयपुर आया था। ऐसे में पूरे मामले में किसी सर्राफा के शामिल होने की संभावना है। आरोपी से पूछताछ कर, उसे सोमवार को कोर्ट के समक्ष पेश किया जाएगा।

पिछले साल से अब तक एयरपोर्ट पर पकड़ा गया तस्करी का 25 किलो सोना

जयपुर एयरपोर्ट पर पिछले कई सालों से सोने की तस्करी के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। पिछले साल अप्रैल माह से अब तक सोने की तस्करी के करीब 22 मामले पकड़े गए हैं। जिसमें करीब 25 किलो सोना अलग-अलग तरीके से जयपुर लाया गया। वैसे तो तस्करों ने हर बार नए-नए तरीकों से सोने की तस्करी की है। लेकिन सबसे अधिक आठ मामले रैक्टम (गुदा) में सोने लाने के हैं। इस साल फरवरी माह में ही बैंकॉक और दुबई से आए दो यात्रियों के रैक्टम से करीब आधा किलो सोना पकड़ा गया।

रिपोर्ट एवं फोटो: शिवांग चतुर्वेदी



Source link

MP कांग्रेस में फिर टूट:उपचुनाव से 8 दिन पहले दमोह विधायक राहुल सिंह लोधी का इस्तीफा, 1 घंटे बाद भाजपा में शामिल


  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Breaking MLA From Damoh Rahul Lodhi Submitted Resignation To Protem Speaker; One More Seat Vacant, BJP Did Not Join

भोपाल5 घंटे पहले

कांग्रेस से इस्तीफा देने के बाद राहुल लोधी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मौजूदगी में भाजपा ज्वाइन कर ली।

  • राहुल लोधी के पार्टी छोड़ने की अटकलों के चलते कमलनाथ ने भी उनसे मुलाकत की थी
  • राहुल के पार्टी छोड़ने पर कांग्रेस का पलटवार, कहा- सौदेबाजी का खेल अभी भी जारी है

मध्य प्रदेश में उपचुनाव से पहले कांग्रेस को एक और बड़ा झटका लगा है। वोटिंग से 8 दिन पहले दमोह से कांग्रेस विधायक राहुल सिंह लोधी ने पार्टी छोड़ दी है। उन्होंने प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा को रविवार सुबह इस्तीफा सौंपा। इसके 1 घंटे बाद ही वह भाजपा में शामिल हो गए।

इस्तीफा देने के बाद राहुल लोधी सीधे भाजपा कार्यालय पहुंचे। यहां मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मौजूदगी में वह भाजपा में शामिल हो गए। राहुल लोधी के पार्टी छोड़ने की अटकलें पहले से ही थीं। इसके मद्देनजर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने उनसे मुलाकात भी की थी। राहुल लोधी दमोह सीट से पहली बार विधायक बने थे। भाजपा के जयंत मलैया को हराया था।

कांग्रेस विधायक के इस्तीफे पर प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर ने कहा कि राहुल लोधी ने दो दिन पहले इस्तीफा दे दिया था। लेकिन, उन्हें दो दिन का समय दिया था, ताकि विधायकी छोड़ने के पहले वे अच्छे से सोच-विचार कर लें। दो दिन बाद भी उन्होंने अपना फैसला नहीं बदला।

भाजपा प्रत्याशी के चचेरे भाई हैं राहुल

राहुल बड़ामलहरा से भाजपा उम्मीदवार प्रद्युम्न सिंह लोधी के चचेरे भाई हैं। प्रद्युम्न भी कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए थे। तब राहुल ने कहा था कि कांग्रेस ने ही उन्हें राजनीतिक रूप से सक्षम बनाया है, इसलिए वह हमेशा कांग्रेस के साथ रहेंगे। परिस्थितियां कैसी भी आ जाएं, वह कांग्रेस का साथ नहीं छोड़ेंगे।

राहुल लोधी के इस्तीफे के बाद विधानसभा में दलगत स्थिति

पार्टी सीट
भाजपा 107
कांग्रेस 87
बसपा 2
सपा 1
निर्दलीय 4
खाली सीट 29

भाजपा के विकास कार्यों ने प्रभावित किया: राहुल
भाजपा में शामिल होने के बाद राहुल ने कहा कि उन्होंने सबसे पहला वचन दमोह में मेडिकल कॉलेज खोले जाने का दिया था, लेकिन कमलनाथ ने 15 महीने में कुछ नहीं किया। विकास की तो बात ही नहीं की गई। वह तब भी अडिग थे और आज भी हैं। प्रलोभन की बात नहीं है। छह महीने में भाजपा सरकार ने जिस तरह से विकास किया है, उसी को देखते हुए वह भाजपा में शामिल हुए हैं।

कांग्रेस बोली- भाजपा की सौदेबाजी जारी
राहुल के पार्टी छोड़ने के बाद कांग्रेस ने भाजपा पर पलटवार किया है। कांग्रेस प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा ने कहा- प्रदेश पर 25 उपचुनाव थोपने वाली भाजपा अभी भी बाज नहीं आ रही है। लोकतंत्र की हत्या और सौदेबाजी का खेल लगातार जारी है। भाजपा ने चुनाव में अपनी संभावित हार को देखते हुए खरीद-फरोख्त का खेल फिर शुरू कर दिया है। राहुल सिंह लोधी से पहले कांग्रेस के 25 विधायक भाजपा में शामिल हो चुके हैं।



Source link

चीन सीमा पर राजनाथ:रक्षा मंत्री ने की शस्त्र पूजा, कहा- सेना हमारी जमीन का एक इंच हिस्सा भी किसी को लेने नहीं देगी


  • Hindi News
  • National
  • Defence Minister At China Border | Rajnath Singh Performs ‘Shastra Puja’ At Sukna War Memorial In Darjeeling, West Bengal.

दार्जीलिंग14 मिनट पहले

राजनाथ सिंह ने पश्चिम बंगाल के सुकना वॉर मेमोरियल में शस्त्र पूजा की, इस दौरान उनके साथ आर्मी चीफ जनरल मनोज मुकुंद नरवणे भी मौजूद रहे।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने दशहरे के मौके पर दार्जीलिंग के सुकना वॉर मेमोरियल में शस्त्र पूजा की। उन्होंने कहा कि भारत चाहता है कि चीन के साथ सीमा पर चल रहा तनाव खत्म हो। इस इलाके की शांति बनी रहे। मुझे भरोसा है कि हमारी सेना किसी को हमारी जमीन का एक इंच हिस्सा भी नहीं लेने देगी। इससे पहले रविवार सुबह वे नाथू ला दर्रा पहुंचे और जवानों को दशहरे की शुभकामनाएं दीं।

रक्षा मंत्री पश्चिम बंगाल और सिक्किम के 2 दिन के दौरे पर हैं। इस दौरान उनके साथ आर्मी चीफ मनोज मुकुंद नरवणे भी मौजूद रहे। राजनाथ ने सुबह ट्वीट कर देशवासियों को विजयादशमी की शुभकामनाएं दीं।उन्होंने कहा कि भारतीय सेना के जवानों से भेंट करके मुझे हमेशा बेहद खुशी होती है। उनका मनोबल बहुत ऊंचा रहा है। इसकी जितनी भी प्रशंसा की जाए कम है। राजनाथ ने शनिवार को दार्जीलिंग के सुकना में 33 कोर के मुख्यालय का दौरा कर पूर्वी सेक्टर में सेना की तैयारियों की समीक्षा की थी।

‘सैनिकों का साहस सुनहरे अक्षरों में लिखा जाएगा’
रक्षा मंत्री ने कहा कि हाल ही में लद्दाख में भारत-चीन सीमा पर जो कुछ भी हुआ और जिस तरह से हमारे जवानों ने बहादुरी से जवाब दिया, इतिहासकार हमारे जवानों की उस वीरता और साहस को सुनहरे शब्दों में लिखेंगे।

लद्दाख की गलवान घाटी में 15 जून को भारत-चीन के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई थी। इसमें भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे। चीन के 40 से ज्यादा सैनिक मारे गए थे। सीमा पर तनाव कम करने के लिए दोनों देशों के बीच 7 राउंड की बातचीत हो चुकी है। भारत ने लद्दाख में चीनी सेना का मुकाबला करने के लिए वहां करीब 60,000 सैनिकों को तैनात किया है।



Source link

संघ की दशहरा पूजा:भागवत बोले- चीन के साम्राज्यवाद के सामने भारत तन कर खड़ा हुआ, कोई दोस्ती को दुर्बलता न समझे


  • Hindi News
  • National
  • Sangh Chief News | Rashtriya Swayamsevak Sangh Mohan Bhagwat Will Address On Dussehra Vijayadashami Festival 2020

नई दिल्ली31 मिनट पहले

भागवत ने कहा कि भारत में सिर्फ हिंदू रहेगा, ऐसा भी नहीं है। हमें द्वेष सिखाने वालों से बचना होगा।

विजयादशमी के मौके पर रविवार को संघ प्रमुख मोहन भागवत ने नागपुर स्थित मुख्यालय में शस्त्र पूजा की। उन्होंने कहा कि राम मंदिर पर 9 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट का असंदिग्ध निर्णय आया। एकमत से निर्णय था, सारे देश ने समाज ने उसे स्वीकार किया। हर्षोल्लास का विषय होने के बाद भी संयम से उसे मनाया। कोरोना के चलते इस बार केवल 50 लोग मौजूद थे।

भागवत ने यह भी कहा कि चीन के साम्राज्यवादी स्वभाव के सामने भारत तन कर खड़ा हुआ है, जिससे पड़ोसी देश के हौसले पस्त हुए हैं। कोई भी देश हमारी दोस्ती को कमजोरी न समझे।

भागवत के भाषण की 7 मुख्य बातें

1. कोरोना को बढ़ा-चढ़ाकर बताया, लेकिन जनता सावधान हुई
हम कह सकते हैं कि सारी परिस्थिति में कोरोना महामारी से होने वाला नुकसान भारत में कम है, इसके कारण कोरोना की बीमारी कैसे फैलेगी इसे समझकर हमारे शासन-प्रशासन ने उपाय बताए। उनका अमल हो, इसकी तत्परता से योजना की। उन्होंने इसका बढ़ा-चढ़ाकर इसका वर्णन किया, जिससे जनता में भय आ गया। उसका फायदा भी हुआ कि जनता अतिरिक्त सावधान हो गई।

कोरोना में सारा समाज दूसरों की चिंता करने में जुट गया। लोग सहायता लेकर गए तो लोगों ने यह तक कहा कि हमारे पास सात दिन का राशन है, जिसे जरूरत है उसे दीजिए। संकट में लोगों ने परस्पर सहयोग दिखाया। अंग्रेजी में इसे सोशल कैपिटल कहते हैं, लेकिन यह हमारे संस्कारों में हैं। बाहर से आकर हाथ-पैर धोना, सफाई का ध्यान रखना यह हमारा सांस्कृतिक संचय है, यह हमारे व्यवहार में आ गया।

2. लोगों को गांवों में रोजगार देने होंगे
जो लोग अपना रोजगार बंद करके अपने-अपने गांव गए थे, वे वापस आने लगे हैं। बहुत अधिक तादाद वापस आने वालों की है। जो अभी अपने ही गांवों में टिके हैं, वे वहीं रोजगार ढूंढेंगे। ऐसे में अब रोजगार पैदा करना है। शिक्षकों का वेतन बंद है, कई को अभी भी सबको पूरा वेतन नहीं मिल पा रहा। अब वे घर कैसे चलाएं, इसकी समस्या है। अभिभावकों के पास बच्चों की फीस भरने का पैसा नहीं है। ये सारी व्यवस्था करना सेवा का आयाम ध्यान में आता है। ये सब परिस्थिति है, लेकिन इससे धीरे-धीरे बाहर आने वाले हैं। इस समय अपराध की समस्या बढ़ती है।

3. कोरोना ने प्रकृति को बेहतर किया
हमारे जीवन में कुछ कृत्रिम चीजें घुस गई थीं, जो इस दौर में कम हो गईं। इससे यह अनुभव हुआ कि इनके न रहने से जीवन पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा। क्या आवश्यक है और क्या नहीं, ये पता लग गया है। हमें हवा में ताजगी का अनुभव हुआ। नदियों में हमने स्वच्छता देखी। हमने अनेक प्रकार के पक्षी घर की खिड़कियों पर और बगीचे में देखे।

4. चीन के मंसूबे ध्वस्त किए, दूसरे देश भी उसके विरोध में
कोरोना महामारी में चाइना का नाम आता है, शंका है। चीन ने इस कालावधि में हमारी सीमाओं पर अतिक्रमण किया। यह उनका साम्राज्यवादी स्वभाव है, सब जानते हैं। इस बार भारत ने जो प्रतिक्रिया दी, उसकी वजह से वह सहम गया, क्योंकि भारत तन कर खड़ा होगा। भारत की सेना ने अपनी वीरता का परिचय दिया।

अब दूसरे देशों ने भी चीन को आंख दिखाना शुरू किया है। हम स्वभाव मित्रता करने वाला है। हम लड़ने वाले नहीं हैं, लेकिन हमारी मित्रता की प्रवृत्ति को दुर्बलता न समझें। चीन को पहली बार समझ आया कि हम इतने कमजोर नहीं हैं।

5. हिंदू किसी पंथ का नाम नहीं
हिंदुत्व एक ऐसा शब्द है, जिसे पूजा से जोड़कर संकुचित किया गया है। संघ में इसका प्रयोग नहीं होता। हमारी मान्यता में यह शब्द अपने देश की पहचान को बताने वाला है। भारत को अपना मानने वाले और उसे अपने आचरण में लाने वाले सभी 130 करोड़ लोगों पर लागू होता है।

जो इस समाज को तोड़ना चाहते हैं, वे इस शब्द से ही टीका-टिप्पणी से शुरुआत करते हैं। ‘हिंदू’ में विश्वभर की विविधताओं का सम्मान है। वे लोग बताते हैं कि आप विविध नहीं हो, अलग-अलग हो। हम डिफरेंस को सेपरेट बताते हैं। हिंदू किसी पंथ का नाम नहीं है, किसी की बपौती नहीं है। यह भारतभक्ति है और विशाल प्रांगण में बसाने वाला शब्द है।

जब हम कहते हैं कि हिंदुस्तान हिंदू राष्ट्र है, इसके पीछे हमारी कोई राजनीतिक संकल्पना नहीं है। भारत में सिर्फ हिंदू रहेगा, ऐसा भी नहीं है। हमें द्वेष सिखाने वालों से बचना होगा। ये भारत की विविधता को तोड़ने वाली मंडलियां हैं, ‘भारत तेरे टुकड़े-टुकड़े’ गैंग है। भड़काने वालों की बातों में नहीं आना।

6. लोकतंत्र में स्वस्थ स्पर्धा हो
हमारे यहां अनेक दल हैं। एक दल प्रयास करता है कि अगले चुनाव में सत्ता बदल जाए और हम बैठ जाएं, यह प्रजातंत्र में चलता है। लेकिन यह स्पर्धा है, इसे स्वस्थ रूप से होना चाहिए, लेकिन हमारे भेद से समाज में विभाजन और कटुता पैदा हो, यह राजनीति नहीं है। यह ठीक नहीं है। भारत को दुर्बल करने के लिए विभाजित समाज बनाने के लिए कोशिश करने वाली शक्तियां हैं। दुनिया में भी हैं और भारत में भी हैं।

7. कुछ लोग देश को भटका रहे
कुछ लोग ‘भारत के टुकड़े हों’ कहते नजर आते हैं, वे संविधान और समाज के रखवाले बताकर समाज को उलटी पट्‌टी पढ़ाते हैं। बाबा साहब अंबेडकर ने जिसे अराजकता कहा है, ऐसी बातें सिखाने वाले ये लोग हैं। ये अपने निहित स्वार्थों के लिए ऐसी बात करते हैं।

कोरोना के कारण कार्यक्रम बदला
नागपुर में होने वाले संघ के इस कार्यक्रम में हर साल किसी प्रतिष्ठित व्यक्ति को मुख्य अतिथि के रूप में बुलाया जाता है। इस बार कोरोना महामारी के कारण किसी बाहरी व्यक्ति को कार्यक्रम में नहीं बुलाया। इस बार नागपुर में जयघोष और पथ संचलन भी नहीं किया गया।



Source link